Monday, June 14, 2010

टूटता तिलस्म

मेरा उनसे कोई खून का रिश्ता नहीं था फिर भी मै उनसे बराबर मिलता था घंटो मै उनसे बातें करता था उनको भी अच्छा लगता था मझसे बातें करना। मेरा उनसे एक आत्मिक लगाव हो गया था, वो तक़रीबन ६५ या ६८ साल के होंगे। उनके दो लड़के थे एक विदेश में रहता था और एक भारत के ही महानगर में नौकरी करता था, बीच-बीच में लड़के आते थे अपने माता-पिता से मिलकर फिर वो चले जाते थे। जिस बुजुर्ग सज्जन से मुझे लगाव था उनको किडनी का प्राब्लम था वो महीने में चार या पांच बार डायलोसिश के लिए हस्पताल जाते थे उनकी पूरी जिंदगी करीब-करीब दवा पर ही टिकी थी, वो जब भी हस्पताल से आते थे तो मुझे जरुर फोन करते थे अपने परेशानियों को बताते थे कभी बहुत बेचैन होते तो मुझे बुला लेते थे। मुझसे घंटो बातें करते, उनके बातों में जिंदगी की सच्चाई नज़र आती थी, वो हमेशा यह बात कहते थे "अजय पहले हमारे बुजुर्ग अपनी बेटी का कन्यादान करते थे लेकिन आज हम अपने बेटे का ही दान कर देते हैं , हम अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाते है अच्छे से अच्छे कालेज में उच्च शिक्षा के लिए भेजते है पढने के बाद वो नौकरी में जाते है फिर उनकी हम शादी कराते है, शादी के बाद बच्चे पराये हो जाते है शायद उनकी खुद की जिंदगी अच्छी लगने लगती है और माता-पिता की जिंदगी से उनको कोई खास लगाव नहीं रह जाता है, आज-कल के बच्चे बस... एक रिश्ते को निभाते है।" उनकी बातों में दर्द था मै यह महशुस करता था, शायद उनके बच्चे अपनी जिम्मेवारी को सही तरीके से नहीं निभा पा रहे थे, तभी उनके दिल में ऐसी बाते थी। वो सज्जन अपनी परेशानियाँ तो नहीं बताते थे लेकिन बातों ही बातों में जीवन की सच्चाई से रूबरू जरुर करा देते थे। वो बराबर यह बात कहते थे ...जिंदगी हाथो से धीरे-धीरे फिशलती जा रही है मुझमे इतनी शक्ति नहीं है की जाती हुई जिन्दगी को पकड़ संकू ... शायद धीरे-धीरे मौत के आगोश में जा रहा हूँ । उनमे जीने की लालसा थी लेकिन स्वास्थ उनका साथ नहीं दे रहा था क्यों कि वो अक्सर यह कहते थे कि मै जीना चाहता हूँ।उसी दरमियान मै अपने निजी कामो से बाहर चला गया था तक़रीबन दस दिनों बाद जब मै अपने घर लौटा तो दुसरे दिन उनसे मिलने के लिए उनके घर गया उनकी पत्नी से मुलाकात हुई ॥वो रोते हुए बोली कि तुम कहाँ चला गया था वो बराबर तुमको याद करते रहे, लेकिन तुमसे बात नहीं हो पाई। वो तो अपनी अनंत-यात्रा पर अकेले ही चले गए मुझे साथ लेकर नहीं गए अब उनके बगैर यह जिंदगी कैसे काटूंगी। उनकी रुदन में जो दर्द था वो मुझे अन्दर तक झकझोर दिया। उनका बेटा जो भारत में था अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ आया था उनके दाह-संस्कार के बाद क्रिया-कर्म में भाग लेने के लिए । कभी-कभी सोंचता हूँ जिंदगी इतनी बे-मानी क्यों है, अक्सर हम अपने बच्चों अपने परिवार के लिए जीते है जिनके लिए जिंदगी भर कि जमा-पूंजी उनके भविष्य को बनाने में लगा देते है लेकिन अंतिम समय में वही बच्चे हमारे साथ नहीं रहते हैं। आज के भौतिक-युग में पैसा सर्वोपरि हो गया है शायद अपने खून के रिश्ते से भी ऊपर।

2 comments:

  1. "आज के भौतिक-युग में पैसा सर्वोपरि हो गया है शायद अपने खून के रिश्ते से भी ऊपर"

    ReplyDelete
  2. भैया, पुरानी कहानी होगयी.

    ReplyDelete