Monday, September 5, 2011

...आवाज़...: अन्ना कि ललकार

...आवाज़...: अन्ना कि ललकार: अन्ना कि ललकार पर उमड़ा जन सैलाब है।
आगे-आगे बढ़ते जाओ मंजिल तेरे पास है।।
थकना नहीं न डरना है बस आगे ही बढना है।
आगे बढ़कर लेलो त...

No comments:

Post a Comment